झट से बीपी नॉर्मल कर देता है सिंघाड़ा, हॉर्मोन रहता है बैलेंस

    0
    355

    पानी के सिंघाड़े स्वाद के साथ साथ सेहत के लिए भी काफी अच्छे माने जाते हैं , इसके सेवन से तमाम समस्याओं से निजात पाया जा सकता है ।

    सिंघाड़ा पानी में पैदा होता है इसलिए इसे पानी फल भी कहा जाता है , इसके सेवन से कई तरह के फायदे होते हैं । सिंघाड़ा में विटामिन ए , सिट्रिक एसिड , फॉस्फोरस , विटामिन सी , मैंगनीज , थायमिन , कार्बोहाइड्रेड , फाइबर , आयोडीन और मैग्नीशियम आदि पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है । इसलिए यह हमारी सेहत के लिए बेहद लाभकारी माना जाता है । खासतौर पर दिल की बीमारियों के लिए सिंघाड़ा रामबाण औषधि है । इसके अलावा यह अन्य बीमारियों जैसे गले में खराश , थकावट , सूजन और ब्रोंकाइटिस जैसी बीमारियों के लिए बेहद लाभकारी माना जाता है । आज हम इस लेख के माध्यम से बता रहे हैं कच्चा सिंघाड़ा किन-किन समस्याओं को करता है दूर और क्या हैं इसके फायदे ।

    लोग व्रत में सिंघाड़े के आटे का इस्तेमाल करते हैं । इसका हलवा और पूड़ी बनाकर लोग बहुत चाव से खाते हैं । स्वाद के साथ साथ सिंघाड़ा सेहत के लिए भी बेहद अच्छा माना जाता है । इसके सेवन से गैस , कब्ज , अपच जैसी समस्याओं से राहत मिलती है । इसे डाइट में शामिल करने से आपको जल्द ही राहत मिल जाएगी ।

    सिंघाड़ा स्किन के लिए बहुत अच्छा माना जाता है । इसके सेवन से स्किन की झुर्रियां , झाइयां , कील-मुहांसे से निजात मिलता है । इसके अलावा इसमें मौजूद पोषक तत्व चेहरे को निखारने में अहम भूमिका निभाते हैं ।

    लो ब्लड प्रेशर में भी सिंघाड़ा रामबाण औषधि के रूप में कार्य करता है । सिंघाड़े में मौजूद सोडियम ब्लड प्रेशर को नॉर्मल रखने में मजबूत भूमिका निभाता है । साथ ही इंस्टेंट एनर्जी के लिए भी सिंघाड़ा बहुत अच्छा माना जाता है ।

    Also Read -   Petrol Price in India - Is it hiked under Modi Government?

    बवासीर की बीमारी में सिंघाड़ा बहुत फायदेमंद होता है । इस बीमारी में बहुत ज्यादा तीखा खाने और तेल मसाले के वजह से मल त्याग करने में परेशानी होती है । ऐसे में सिंघाड़े के सेवन से इस समस्या से निजात पाया जा सकता है ।

    कच्चे सिंघाड़े में मौजूद पोषक तत्व शरीर के लिए बहुत फायदेमंद होता है । आप इसकी सब्जी भी बना सकते हैं जो की सेहत के लिए बहुत लाभकारी होता है । इसके सेवन से फर्टिलिटी अच्छी होती है साथ ही हार्मोनल बैलेंस भी ठीक रहता है ।