15.1 C
New Delhi
Wednesday, February 1, 2023

कियारा आडवाणी संग शादी की खबरों पर सिद्धार्थ मल्होत्रा ने दिया रिएक्शन

बॉलीवुड अभिनेता सिद्धार्थ मल्होत्रा अपनी आने वाली...

रिलीज होने से पहले कोर्ट पहुंची अर्जुन कपूर की फिल्म ‘कुत्ते’, पोस्टर से जुड़ा है विवाद

बॉलीवुड अभिनेता अर्जुन कपूर,तब्बू,नसीरुद्दीन शाह जैसे दिग्गज...

आखिर क्यों BJP ने नहीं की नीतीश कुमार को रोकने की कोशिश? क्या BJP फिर खेलने जा रही है कोई नया दाव?

Politicalआखिर क्यों BJP ने नहीं की नीतीश कुमार को रोकने की कोशिश? क्या BJP फिर खेलने जा रही है कोई नया दाव?

नीतीश कुमार का इस्तीफा सबके लिए चौकाने वाला था मगर शायद BJP के लिए नहीं. BJP बहुत अच्छे से जानती थी कि नीतीश कुमार की चाल ढाल में कब से और कितना बदलाव है. अगर सही मानिए तो BJP के लिए नीतीश कुमार थाली के बैंगन हो गये हैं वो कब कहां लुड़क जाए कोई नहीं जनता. नीतीश कुमार एक बार फिर BJP से दामन छुड़ा महागठबंधन बनाने चल दिए हैं.

लेकिन यहां सवाल ये आता है कि अगर BJP ये सब जानती थी तो उसने नीतीश कुमार को मानाने की कोशिश क्यों नहीं की. अगर ध्यान दिया जाए तो अब BJP को नीतीश कुमार पर भरोसा ही नहीं रहा नीतीश कुमार BJP के लिए धोखेबाज से कम नहीं हैं इस तरह से पाला बदलने की उनकी इस आदत ने उनकी विश्वसनीयता को खो दिया है. वो कब पलट जाएं कोई भरोसा नहीं.

जब कल नीतीश  ने इस्तीफा दिया उस समय किसी BJP नेता ने कुछ नहीं कहा न कोई ताना न कोई तमाशा लेकिन आज हर तरह से हमला किया जा रहा है. माना जाए तो BJP नीतीश कुमार के इस प्लान से अंजन न थी वो सब जानती थी कि नीतीश कुमार अब उनका हाथ झटकने वाले हैं. लेकिन किसी ने भी उनसे सिफारिश लगाने की कोशिश नहीं की. वैसे ये बात सामने आयी थी की अमितशाह ने कुछ अन्य नेताओं के साथ मिल कर नीतीश को समझाने की कोशिश की थी पर नीतीश कुमार अपनी वाली करते रहे.

यहां तक कि केन्द्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने तंज कसते हुए बोला कि भाजपा के पास 63 और JDU के पास 36 सीटें थी लेकिन इसके बाद भी भाजपा ने नीतीश कुमार को मुख्यमंत्री पद दिया. इसके बावजूद अब फिर से उन्हें कोई और साथी चाहिए. नीतीश कुमार के इस व्यवहार से एक बात तो साफ़ है जब वो इतना करने के बाद BJP के नहीं हुए तो किसी और के क्या होंगे.

Also Read -   तेजस्वी यादव का बयान, नीतीश कुमार सच्चे समाजवादी लेकिन हमारे साथ आने में BJP को क्यों दर्द?

नीतीश कुमार को दर था कि BJP बिहार में भी महाराष्ट्र वाला खेल न खेल जाए और वो बिहार के उद्धव ठाकरे न बन जाए. BJP की बड़े भैय्या वाली इमेज ने नीतीश कुमार को अंदर से खौला रखा था और वो बस एक मौका चाहते थे अपनी चाल चलने का.

 

 

 

Check out our other content

Check out other tags:

Most Popular Articles