22.1 C
New Delhi
Friday, February 3, 2023

कियारा आडवाणी संग शादी की खबरों पर सिद्धार्थ मल्होत्रा ने दिया रिएक्शन

बॉलीवुड अभिनेता सिद्धार्थ मल्होत्रा अपनी आने वाली...

रिलीज होने से पहले कोर्ट पहुंची अर्जुन कपूर की फिल्म ‘कुत्ते’, पोस्टर से जुड़ा है विवाद

बॉलीवुड अभिनेता अर्जुन कपूर,तब्बू,नसीरुद्दीन शाह जैसे दिग्गज...

आखिर बिना सीमेंट कैसे बना ताजमहल ? जानिए पूरा सच

Fact Checkआखिर बिना सीमेंट कैसे बना ताजमहल ? जानिए पूरा सच

ताज महल को आखिर किसने नहीं देखा , इसकी खूबसूरती लोगों को अपनी तरफ खींच ही लाती है | ताजमहल जितना खुबसूरत से उतना ही ज्यादा रहस्यों से भरा हुआ है | ताजमहल को लेकर लोगों ने कई अनुमान लगाए लेकिन इसका पूरा राज आज तक किसी को नहीं पता | दुनिया में केवल एक ऐसी चीज़ नहीं है जो रहस्यमयी है इसके अलावा भी काफी रोचक चीज़ें लोगों को हैरान कर देती हैं | रहस्यों को जानने की जिज्ञासा ही लोगों को और समझदार बनाती  है | अगर मनुष्य के मन से चीज़ों को जानने की इच्छा खत्म हो जाए तो उसका जीवन बेकार है |

ऐसा ही एक अनसुलझा रहस्य है ताजमहल का बनना , जी हाँ ! क्या आप जानते है कि ताजमहल को बिना सीमेंट के बनाया गया था ? आज इसी बात की जानकारी हम आपको देंगे | सुनने में कितना अजीब है न ये ? इतनी बड़ी इमारत बिना सीमेंट के बनायी गयी | सच में ये सबको हैरान कर देने वाला है | लेकिन यहा एक सवाल ये भी उठता है कि अगर ताजमहल के बनने में सीमेंट का इस्तेमाल नहीं हुआ तो आखिर इन पत्थरों को आपस में जोड़ा कैसा गया ?

लेकिन ताजमहल में सीमेंट का इस्तेमाल न करने की कोई इच्छा जैसा सवाल नहीं था | ताजमहल को बनने में 1631 से लेकर 1648 तक का समय लगा था, और जिस समय के बीच ताजमहल बन कर तैयार हुआ , उस समय तक सीमेंट का अविष्कार ही दुनिया में नहीं हुआ था | अब बिना सीमेंट ताजमहल बना कैसे ? हुआ कुछ यूं करता था कि उस समय की इमारतों को एक अलग और काफी खास पेस्ट का इस्तेमाल कर के बनवाया जाता था | इस पेस्ट को बनाने के लिए एक मिश्रण तैयार किया जाता था और इस मिश्रण को बनाने के लिए गुड़ , दही , जूट ,कंकर, बताशे, बेलगिरी का पानी और उड़द की दाल का इस्तेमाल किया जाता था | क्योंकि इमारतों को बनाते समय ये बहुत बड़ा सवाल होता था कि पत्थरों को आपस में चिपकाया कैसे जाए, और इन्ही पत्थरों को आपस में चिपकाने या जोड़ने के लिए इस खास किस्म के पेस्ट का इस्तेमाल होता था |

Also Read -   FACT CHECK: Are the people in the Video tweeted by Rahul Gandhi to attack PM Modi Really "Ladakhis" ?

सुनने में कितना अजीब है न , इन घरेलू रसोई की चीज़ों से इतने आलीशान और शानदार इमारत को बनाया जाता था | ये सच में सबको हैरान कर देने वाला है | सबसे बड़ी बात तो ये है कि इस मिश्रण में कितनी ताकत रही होगी जो आज तक ताजमहल टस से मस नहीं हुआ | उसकी सुन्दरता के साथ उसकी मजबूती भी यूं ही बरकरार है |

 

Check out our other content

Check out other tags:

Most Popular Articles