22.1 C
New Delhi
Monday, November 28, 2022

तो इसलिए तिब्बत के ऊपर से नहीं गुजरता कोई भी प्लेन , सामने आयी ये बड़ी वजह

Fact Checkतो इसलिए तिब्बत के ऊपर से नहीं गुजरता कोई भी प्लेन , सामने आयी ये बड़ी वजह

ये संसार अपने अन्दर काफी सारे बड़े – बड़े रहस्य छुपाए हुए है | इसमें बहुत सारी ऐसी रोचक बातें छुपी हैं जो लोग नहीं जानते | ऐसा ही एक राज है तिब्बत | क्या आप जानते है कि आखिर तिब्बत के ऊपर से कोई प्लेन क्यों नहीं गुजरता ? अगर नहीं जानते तो आज हम आपको इसके पीछे कारण बताएंगे | तिब्बत का नाम तो हर किसी ने सुना होना ,काफी लोग इसे एक देश मानते हैं लेकिन यह चीन का निजी स्थान है | लेकिन इसके ऊपर से किसी जहाज के न उड़ने में चीन का कोई हाथ नहीं है | इसके पीछे एक अलग ही सच्चाई है |

दरअसल , तिब्बत की धरती आम धरती जैसी बिल्कुल नहीं है | इसकी जमीन उच्च पठारी है | क्या आप जानते है कि तिब्बत को ‘दुनिया की छत ‘ भी कहा जाता है और इसका कारण है वहां के पर्वत और पहाड़ जो की समुन्द्र से काफी ऊंचाई पर है जिस वजह से ये जगह बड़े – बड़े पर्वतों से घिरी हुई है | इसलिए इसे हिमालय पर्वत का घर भी बोला जाता है | जिस ऊंचाई पर यह है उस ऊँचाई पर विमानों का उड़ना लगभग न मुमकिन है | इसके बात भी कोई ऐसा करना चाहे तो यह बहुत खतरनाक साबित हो सकता है | कुल मिलाकर तिब्बत उन्ही स्थानों में से एक है जहाँ विमान सेवा का नामों निशान मिला काफी मुश्किल है और इस सच्चाई को जानते हुए भी इसके ऊपर से विमान को निकालना यानि अपनी जान को खतरे में डालना |

तिब्बत के ऊपर से प्लेन निकाल पाना सच्च में काफी मुश्किल है | क्योंकि यह दुनिया का सबसे कम दाब वाला स्थान है | इस जगह हवा की कमी होने के कारण यात्रियों को बड़े खतरे का सामना करना पड़ सकता है | क्योंकि यहां लोगों को ज्यादा ऑक्सीजन की ज़रूरत होगी और इस परिस्थिति में अगर वो न मिले तो अंजाम सब जानते हैं | यहाँ का एन्वायरमेंट बाकी के हवाई रास्तों से बहुत अलग है | साथ ही यह हिमालय पर्वत से काफी पास है और इस कारण यहां जेट धाराएं और भी तेज रफ़्तार पकड़ती हैं | इन तेज रफ़्तार हवाओं का सामना करते हुए प्लेन को सुरक्षित तरीके से लैंड करना काफी मुश्किल है |

Also Read -   इस शख्स ने खींची थी भारत के दो टुकड़े करने वाली लकीर , भारत के नक़्शे की भी नहीं थी जानकारी

आपको बता दें कि यहां एक हवाई पट्टी भी मौजूद है लेकिन वो काफी संकरी है | इसलिए यहां काफी कम लोगों या पायलेटों को जाना पसंद हैं | इसके बावजूद भी दुनिया के कुछ अनुभवी पायलेटों ने ये काम किया है |

Check out our other content

Check out other tags:

Most Popular Articles