Rahul Gandhi: मध्य प्रदेश की जनता को लुभाने की राहुल गांधी की कोशिश! राज्य का दौरा कर क्या बदल पाएंगे चुनावी दिशा?

0
8691
फाइल फोटो

मध्य प्रदेश में चुनावी बेला शुरू हो गई है. राज्य में धड़ाधड़ चुनाव प्रचार किए जा रहे हैं और जनता को लुभाने के लिए कई बड़े वादों की झड़ी लग गई है. इसके साथ ही राजनीतिक पार्टियों की ओर से वार-पलटवार का दौर भी जारी है. इसी कड़ी में जब नेताओं का एमपी दौरा चल रहा है तो कांग्रेस नेता राहुल गांधी भी 30 सितंबर को शाजापुर के कालापीपल के बाद 10 अक्टूबर को शहडोल के ब्यौहारी में आएंगे. चुनाव अभियान के अंतर्गत कांग्रेस का विंध्य अंचल में पहला कार्यक्रम होगा. यहां राहुल गांधी जनसभा को संबोधित करेंगे. इतना ही नहीं 5 अक्टूबर को प्रियंका गांधी वाड्रा धार के मोहनखेड़ा आएंगी. यहां जनसभा को सफल बनाने की जिम्मेदारी पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह को सौंप दी गई है. बता दें कि मध्य प्रदेश में जल्द ही चुनाव होने वाले हैं जिसको लेकर सारी तैयारियां चल रही हैं और नेताओं का आना जाना भी लगा हुआ है.

फाइल फोटो

एमपी दौरे पर कांग्रेस नेता राहुल गांधी

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, देपालपुर से विधायक विशाल पटेल को कार्यक्रम का समन्वयक बनाया गया है. प्रदेश कांग्रेस के पदाधिकारी ने बताया कि पहले दौर में राष्ट्रीय नेता एक-एक करके सभी अंचलों में कार्यक्रम करेंगे और इसके बाद संभागीय मुख्यालयों पर कार्यक्रम होंगे. वहीं, राहुल गांधी के प्रदेश में दौरों की शुरुआत अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) बहुल क्षेत्र कालापीपल से हो रही है. वह यहां ओबीसी महिलाओं को संसद और विधानसभाओं में आरक्षण देने के साथ जाति गणना का मुद्दा उठा सकते हैं, इसके साथ ही किसानों के विषय में भी अपनी बात रख सकते हैं.

फाइल फोटो

चुनाव को लेकर सरगर्मियां तेज

आपको बता दें कि पिछले चुनाव में भी कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने मंदसौर में किसान कर्ज माफी की घोषणा की थी. प्रस्तावित कार्यक्रम के अनुसार वह आदिवासी बहुत शहडोल के ब्यौहारी में 10 अक्टूबर को आएंगे. जाहिर है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शहडोल में आदिवासी समुदाय को संबोधित कर चुके हैं. वहीं, राज्य में अक्टूबर के पहले सप्ताह में बीजेपी और कांग्रेस दोनों पार्टियों के कई कार्यक्रम हैं. बताते चलें कि साल 2023 के आखिरी में ही प्रदेश में विधानसभा चुनाव होने हैं, देखना होगा कि चुनाव से पहले हो रही राजनीतिक रैलियों का आगामी चुनाव के परिणामों पर कितना असर पड़ता है.