Missing Submarine: लापता पनडुब्बी में बची सिर्फ इतनी ऑक्सीजन, बढ़ाया गया सर्च ऑपरेशन…इतनी गहराई में टाइटैनिक का मलबा

0
1919

दुनिया के सबसे चर्चित जहाज टाइटैनिक का मलबा दिखाने वाली पनडुब्बी टाइटन समुद्र की गहराई में लापता हो गई. पनडुब्बी में 5 अरबपति सवार थे जिनकी तलाश जोर-शोर से जारी है. बताया जा रहा है कि इस पनडुब्बी में महज कुछ घंटों की ही ऑक्सीजन बची है. बता दें कि समय के साथ-साथ पनडुब्बी में सवार लोगों के बचने की उम्मीदें भी कम होती जा रही है क्योंकि इसमें ऑक्सीजन की कमी होती जा रही है.

पनडुब्बी का आकार, लंबाई, चौड़ाई, ऊंचाई

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, टाइटन छोटी कैप्सूल के आकार की पनडुब्बी है जिसकी अधिकतम क्षमता 5 लोगों की है और जब ये लापता हुई तो इसमें 5 लोग ही सवार थे. इसके बारे में आपको और विस्तार से बताएं तो पनडुब्बी 6.7 मीटर लंबी, 2.8 मीटर चौड़ी और 2.5 मीटर ऊंची है. इसमें 96 घंटे की ऑक्सीजन होती है. वहीं, पनडुब्बी में बैठने के लिए कोई सीट नहीं होती सिर्फ एक सपाट सीट होती है जिस पर 5 लोग ही बैठ सकते हैं. इस पनडुब्बी के अंदर लोगों के पैर फैलाने तक की जगह नहीं होती. इसमें बाहर देखने के लिए महज 21 इंच व्यास की खिड़की है. वहीं, पनडुब्बी में सवार लोगों के बारे में बताए तो अधिकारियों ने बताया कि पनडुब्बी में सवार लोगों के पास सीमित मात्रा में खाना और पानी था. इसे टाइटेनिक तक पहुंच कर वापस आने में 8 घंटे का समय लगता है और टाइटेनिक का मलबा 12,500 फीट की गहराई में है जहां तक जाने-आने के लिए 2 घंटे और टाइटेनिक को देखने के लिए 4 घंटे का समय लगता है.

Also Read -   भारत को बड़ी कामयाबी, DRDO ने किया AD-1 इंटरसेप्टर मिसाइल का सफल परीक्षण

बड़े स्तर पर सर्च ऑपरेशन जारी

आपको बता दें कि टाइटेनिक का मलबा समुद्र की सतह से इतनी गहराई में है कि सूरज की रोशनी समुद्र के पानी में महज 660 फीट तक की जा सकती है. स्कूबा डाइविंग के लिए लोग 130 फीट गहराई तक ही जाते हैं. एक तरह से टाइटेनिक का मलबा दुनिया की सबसे ऊंची इमारत बुर्ज खलीफा की ऊंचाई से 4 गुना ज्यादा गहराई में यानी कि बहुत ही ज्यादा गहरा है. वहीं, समुद्र में अब तक का सबसे गहरा अंडर वाटर रेस्क्यू 1,575 फीट की गहराई में किया गया था. बताते चलें कि पनडुब्बी को जब समुद्र में उतारा गया तो उसके करीब 1 घंटे 45 मिनट बाद ही जहाज से उसका कनेक्शन टूट गया, तब से बड़े स्तर पर सर्च ऑपरेशन चलाया जा रहा है. हालांकि, ऑक्सीजन कम होने के चलते अब चिंता और भी ज्यादा बढ़ गई है. आशा की जा रही है कि जितने भी लोग पनडुब्बी में सवार हैं उन्हें जल्द से जल्द सुरक्षित वापस निकाल लिया जाएगा.