बिहार की राजनीति दिन प्रतिदिन बदलती रहती है. ऐसे में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के बीजेपी से अलग होने के बाद से ही आगामी लोकसभा चुनाव 2024 के पीएम उम्मीदवार बनने के दावे तेज हो गए हैं. इस दौरान पटना में जेडीयू के नए पोस्टरों ने तहलका मचा दिया है.

आश्वासन नहीं, सुशासन

आपको बता दें कि जेडीयू के पोस्टरों में लिखा कि, ‘आश्वासन नहीं, सुशासन’ ‘प्रदेश में देखा, देश में दिखेगा’ और जुमला नहीं, हकीकत. वहीं, जेडीयू कार्यालय में इन पोस्टरों के बाद से बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के लोकसभा चुनाव 2024 में विपक्ष के पीएम उम्मीदवारी की अटकलें तेज हो गई हैं.

तेलगांना के सीएम से मिलें

मिली जानकारी के अनुसार, पटना में तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव से मिले थे. हालांकि, दोनों की मुलाकात को राजनीतिक फायदा के नजरिए से देखा जा रहा है.

सोनिया गांधी से की बातचीत

आपको बता दें कि आरजेडी और कांग्रेस के साथ महागठबंधन में शामिल होने के लिए बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कांग्रेस पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से बात की थी इस पर कांग्रेस पार्टी के पूर्व महासचिव कहना है कि अभी समय नहीं आया है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को टक्कर कौन देगा…अभी इस समय तैयारी और टक्कर देने लायक बनने पर विपक्षी दलों को इसे ध्यान में रखकर आगे बढ़ना चाहिए.

लोकसभा चुनाव 2024

बताते चलें कि साल 2024 में लोकसभा का चुनाव होना है और ऐसे में सभी राजनीतिक पार्टियों ने अपनी कमर कस ली है और ऐसी कोशिश की जा रही है कि साल 2024 में पीएम को टक्कर देने के लिए कोई बेहतरीन उम्मीदवार हो. फिलहाल, देखना होगा कि पार्टियों की ओर से जो प्रयास किए जा रहे हैं वो कितने सक्षम होते हैं.

Also Read -   विपक्ष को फिर लगी मिर्ची! खादी उत्सव पर बोले कांग्रेस नेता, कहा- कथनी और करनी दोनों अलग-अलग