बिहार में सियासी खेल कम होता हुआ नजर नहीं आ रहा है जहां पहले बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और सुशील मोदी की दोस्ती की मिसाल दी जाती थी तो वही दोनों के रास्ते एक दूसरे से अलग होते हुए नजर आ रहे हैं.

नीतीश-सुशील अलग-अलग

आपको बता दें कि हाल फिलहाल में जब नीतीश कुमार ने बीजेपी से संबंध तोड़ा तो उन्होंने यह कहा था कि अगर सुशील मोदी होते तो यह नौबत ही नहीं आती, बिहार में नीतीश कुमार ने हमेशा साथ दिया.

नीतीश-सुशील के बीच अच्छे संबंध

आपको बता दें कि सुशील मोदी और नीतीश कुमार इन दोनों के बीच ही प्रोफेशनल से लेकर पर्सनल गोल्डन पर देखने को मिली है कुल मिलाकर कहा जा सकता है कि दोनों एक दूसरे के काफी करीब रहे हैं लेकिन तीसरी बार जब बीजेपी से नीतीश कुमार अलग हो रहे थे तो उन्होंने कहा कि मैं सीएम बनना ही नहीं चाह रहा था. आपको बता दें कि जेडीयू के नेता भी मानते हैं कि सुशील मोदी और नीतीश कुमार के बीच काफी अच्छे संबंध रहे हैं.

नीतीश-केसीआर की मीटिंग

मिली जानकारी के मुताबिक, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बीजेपी के वरिष्ठ नेता और पूर्व उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी पर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि उन्हें कोई गंभीरता से नहीं लेता और वह केंद्र सरकार में पद हासिल करने के लिए टिप्पणियां करते रहते हैं. बताते चलें कि हाल ही में नीतीश और केसीआर की मीटिंग को लेकर सुशील मोदी ने कहा कि दो सपने देखने वालों का मिलन और विपक्षी एकता का नवीनतम कॉमेडी शो है.

Also Read -   5 Biggest blunders of Nehru which costed India