Rahul Gandhi: भारत जोड़ो के बाद अब ‘भारत न्याय यात्रा’ निकालेंगे राहुल गांधी, 14 राज्यों को करेगी कवर…जानिए पूरा प्लान

0
6388
फाइल फोटो

कांग्रेस नेता राहुल गांधी भारत जोड़ो के बाद अब ‘भारत न्याय यात्रा’ निकालने वाले हैं. ये यात्रा 14 राज्यों से होकर गुजरेगी. इसकी शुरुआत मणिपुर से होगी और महाराष्ट्र पर जाकर यात्रा खत्म होगी. बता दें कि कांग्रेस सूत्रों का कहना है की यात्रा के दौरान कांग्रेस नेता राहुल गांधी मणिपुर से इसलिए यात्रा की शुरुआत कर रहे हैं क्योंकि यहां पर भीषण दंगे हुए थे और इस दौरान ही वो यहां से यात्रा शुरू करके बीजेपी को घेरेंगे.

फाइल फोटो

कांग्रेस की ‘भारत न्याय यात्रा’
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, राहुल गांधी की भारत न्याय यात्रा 14 जनवरी से शुरू होकर 20 मार्च तक चलेगी और पिछली बार ‘भारत जोड़ो यात्रा’ को राहुल गांधी ने पैदल ही किया था लेकिन इस बार ‘भारत न्याय यात्रा’ का साधन बस रहेगी. यात्रा के दौरान कांग्रेस नेता राहुल गांधी आम जनता से रूबरू होंगे. वहां बातचीत करेंगे, लोगों से मुलाकात करेंगे. बात करें राहुल गांधी की पिछली यात्रा ‘भारत जोड़ो यात्रा’ की तो वो यात्रा कन्याकुमारी से शुरू होकर श्रीनगर पर खत्म हुई थी. यात्रा के तहत 150 दिनों में 4500 किलोमीटर का सफर तय किया गया था. हालांकि, इस यात्रा में कहीं अहम राज्य छूट गए थे जोकि अब भारत न्याय यात्रा के जरिए कवर किए जाएंगे. अब ऐसे में लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस की यात्रा चुनाव के लहजे से काफी अहम मानी जा रही है. कहा जा रहा है कि कांग्रेस पार्टी इस यात्रा के तहत चुनाव के दौरान अपनी ताकत को और भी मजबूत करेगी.

फाइल फोटो

पार्टी अध्यक्ष खड़गे दिखाएंगे हरी झंडी
आपको बता दें कि 21 दिसंबर को हुई कांग्रेस वर्किंग कमेटी की मीटिंग में पार्टी कार्यकर्ताओं का निर्णय था कि अब राहुल गांधी को अपनी अन्य यात्रा पर निकलना चाहिए और इस दौरान ही इस यात्रा को लेकर चर्चा हुई. यात्रा को लेकर पार्टी महासचिव केसी वेणुगोपाल ने बताया कि, ’14 जनवरी को पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे इंफाल में यात्रा को हरी झंडी दिखाएंगे. वहीं, कांग्रेस नेता जयराम रमेश का कहना है कि ये यात्रा गरीबों के साथ हुए आर्थिक, सामाजिक अन्याय पर फोकस यात्रा होगी…’ बताते चलें कि ये यात्रा पूर्वोत्तर भारत से निकलकर मध्य, उत्तर भारत से होते हुए पश्चिमी राज्यों तक जाएगी. देखना होगा कि आखिर इसका असर आगामी लोकसभा चुनावों पर कैसा पड़ता है.