PM Modi Rally: 5 शहर और 12 कार्यक्रम…इस दिन होगी पीएम मोदी की धुआंधार रैली, मिशन 2024 को लेकर तैयारियां तेज

0
190
फाइल फोटो

साल 2024 में केंद्र में लोकसभा चुनाव होने हैं, ऐसे में सत्ता पर काबिज होने के लिए सभी पार्टियों ने तैयारियां तेज कर दी हैं. इसी कड़ी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आगामी 7 और 8 जुलाई को 4 राज्यों की धुआंधार दौरा करने वाले हैं. पीएम मोदी छत्तीसगढ़, यूपी, तेलंगाना और राजस्थान का दौरा करेंगे. बता दें कि पीएम मोदी की ये यात्रा ऐतिहासिक होने जा रही है क्योंकि इसमें वो 36 घंटे के अंदर 5 शहरों में करीब एक दर्जन कार्यक्रमों में हिस्सा लेंगे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इन चार राज्यों के दौरे में रायपुर, गोरखपुर, वाराणसी, वारंगल और बीकानेर जाएंगे और वहां पर 50 हजार करोड़ रुपये की करीब 50 परियोजनाओं की सौगात देने वाले हैं.

फाइल फोटो

7 और 8 जुलाई को पीएम मोदी के कार्यक्रम

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पीएम मोदी के आगामी दिनों के कार्यक्रम की बात करें तो पीएम मोदी के चार राज्यों के दौरे की शुरुआत 7 जुलाई को होगी जहां सबसे पहले पीएम दिल्ली से रायपुर जाएंगे और वहां कई परियोजनाओं का शिलान्यास व लोकार्पण करेंगे. इसके बाद पीएम मोदी गोरखपुर जाएंगे जहां गीताप्रेस कार्यक्रम में शामिल होंगे और तीन वंदे भारत ट्रेन को हरी झंडी दिखाएंगे. गोरखपुर से पीएम मोदी अपने निर्वाचन क्षेत्र वाराणसी जाएंगे जहां वह कई प्रमुख परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास करेंगे. इसके साथ ही पीएम मोदी मणिकर्णिका घाट और हरिश्चंद्र घाट के नवीनीकरण का भी शिलान्यास करेंगे, इसके बाद पीएम मोदी 8 जुलाई को वाराणसी से तेलंगाना के वारंगल तक की यात्रा करेंगे जहां वह नागपुर विजयवाड़ा कॉरिडोर के प्रमुखों सहित विभिन्न परियोजनाओं की आधारशिला रखेंगे एक सार्वजनिक बैठक में हिस्सा भी लेंगे.

फाइल फोटो

मिशन ‘2024’ को लेकर रैली!

आपको बता दें कि पीएम मोदी का यह दौरा काफी खास होने वाला है क्योंकि जब वह वारंगल से बीकानेर जाएंगे वहां पर अमृतसर-जामनगर एक्सप्रेस वे के विभिन्न खंडों को समर्पित करेंगे. वह ग्रीन एनर्जी कॉरिडोर चरण-1 के लिए अंतर-राज्यीय ट्रांसमिशन लाइन भी समर्पित करेंगे. बताते चलें कि पीएम मोदी के इन चार राज्यों के दौरे को काफी खास माना जा रहा है क्योंकि इस दौरान वो कई परियोजनाओं की सौगात देने के साथ-साथ देश के विकास की बातों पर भी जोर देंगे. खैर, देखने वाली बात ये होगी कि आखिर इस सबका आगामी चुनाव पर कैसा असर पड़ेगा.